• Desk

CBSE: रिजल्ट से हैं असंतुष्ट तो ऐसे रीचेक कराएं अपना आंसर शीट



CBSE Rechecking & Revaluation 2020: सीबीएसई ने 10वीं और 12वीं का रिजल्ट जारी कर दिया है.

अब जो परीक्षार्थी अपने रिजल्ट से संतुष्ट नहीं हैं, वो रीचेकिंग और रीवैल्यूएशन के लिए आवेदन सकते हैं.

12वीं के विद्यार्थी 17 से 20 जुलाई तक इसके लिए ऑनलाइन आवेदन cbse.nic.in पर कर सकते हैं. वहीं 10वीं के विद्यार्थी इसके लिए 20 से 24 जुलाई तक आवेदन कर सकते हैं.

रीचेकिंग और रीवैल्यूएशन 3 स्टेप का प्रोसेस है. पहले री-टोटल कराना होगा. फिर आंसर शीट की फोटो कॉपी के लिए रिक्वेस्ट करनी होगी. आख़िर में आंसर शीट का रीवैल्यूएशन होगा.

ये तीनों प्रक्रिया क्रमबद्ध होते हैं यानी एक के बाद एक. यानी रीवैल्यूएशन के लिए किसी विद्यार्थी को पहली दो प्रक्रिया से गुजरना होगा. रीवैल्यूएशन के तहत कुछ चुनिंदा सवालों की जांच दोबारा कराई जा सकेगी. इन तीनों प्रक्रियाओं के लिए अलग-अलग फीस चुकानी होगी.


Step 1: री-टोटल

शुरुआत में छात्र को फिर से नंबर जोड़ने के लिए आवेदन करना होगा यानी री-टोटलिंग के लिए. इसके तहत किसी विषय के अंकों को फिर से जोड़ा जाएगा या फिर जो प्रश्न शिक्षक द्वारा छूट गए हैं वो चेक होगा. इसके लिए बोर्ड ने फीस तय की है, उसे चुकाना होगा. अगर कुल अंक में बदलाव होता है तो रिजल्ट बदल दिया जाएगा.

Step 2: आंसर शीट की फोटो कॉपी

अगर कोई छात्र री-टोटलिंग से खुश नहीं है तो वह दूसरे स्टेप के लिए आवेदन कर सकता है. वह अपने आंसर शीट की फोटो कॉपी मांग सकता है. इस प्रक्रिया के लिए अलग से फीस चुकानी होगी. इसके बाद वह अपनी कॉपी देख सकेगा.


Step 3: रीवैल्यूएशन

रीवैल्यूएशन फाइनल स्टेप है. अगर छात्र को यकीन है उनका कोई प्रश्न गलत तरीके से चेक किया गया है, तो वह पुनर्मूल्यांकन यानी रीवैल्यूएशन के लिए आवेदन कर सकता है.

रीवैल्यूएशन सिर्फ चुनिंदा सवालों के लिए होगा, पूरी कॉपी के लिए नहीं. जिनते सवाल के लिए आवेदन किया जाएगा, उस हिसाब से फीस चुकानी होगी.